सखा फाउंडेशन नारा

'' बेटी ही बेटा है | ''

'' बेटी है तो कल है | ''

'' कन्या दान महादान ''

'' एक नहीं दो वंश चलाती बेटियां फिर गर्भ में क्यों मार दी जाती है बेटियां | ''

'' बेटी पर करे मान होती है दो घरो की शान ''

'' लड़की नहीं बचाओगे तो वंश कहा से चलाओगे ''

“बोये जाते हैं बेटे पर उग जाती हैं बेटियाँ”

“खाद पानी बेटों को पर लहराती हैं बेटियां”

“स्कूल जाते हैं बेटे पर पढ़ जाती हैं बेटियां”

“मेहनत करते हैं बेटे पर अव्वल आती हैं बेटियां”

“रुलाते हैं जब खूब बेटे तब हंसाती हैं बेटियां”

“नाम करें न करें बेटे पर नाम कमाती हैं बेटियां”

“छोड़ जाते हैं जब बेटे तो काम आती हैं बेटियां”

“कुछ क्षण की मेहमान फिर भी मारी जाती हैं बेटियाँ”

लड़को बुरा न मानना !!!
किसी तरह बेटी बचाओ अभियान जारी रखो !!!!



Story

बच्चा कचरे के ढेर में थैलियाँ बीन रहा था..
मैंने पूंछा क्या कर रहे हो?
वो बोला थैलियाँ बीन रहा हूँ ,
बेचूंगा कुछ पैसे मिलेंगे उनसे पेट भरूंगा..
मैंने कहा,कुछ और क्यों नहीं करते हो? जवाब आया,
पैसे के लिये लोग चोरी करते हैं,
डाका डालते हैं,
तस्करी करते हैं,
रिश्वत लेते हैं ,
एक दूसरे को धोका देते हैं,
जान तक ले लेते हैं ,
कम से कम निरंतर मेहनत से काम करता हूँ ,
ना किसी का लेता हूँ,
ना किसी से लेता हूँ ,
कभी कहीं सुना था,
कर्म करो,कर्म ही ‪#‎जीवन‬ है, कर्म ही ‪#‎सत्य‬ है बस इतना ही जानता हूँ ,
जो भी करता हूँ, दिल से करता हूँ इमानदारी से करता हूँ,
बस केवल मैं मुझे बनाने वाले ‪#‎भगवान‬ से डरता हूँ..
लाइक्स बटन दबा कर अपने दोस्तों को शेयर करे !!!

About us

Sakha Foundation is a non-profit organization in India that aims to tackle issues at the root cause of gender inequality in India’s education system.Founded in order to help victims of 'Acid-attack', 'Child-abuse' and 'rape victims' and also for achievement of behavioural, social and economic transformation, so that every girl-child in India has equal opportunities to access quality education, and medical treatment the non-governmental organization has its management and outreach office in Shastri Nagar Ghaziabad and operations in various cities of India.Any person whoever wishes for his/hers valuable contribution for the betterment of gender equality in India can come and join sakha foundation...

"We welcome Individuals and Volunteers who wants to serve the nation against the fight for heinoius crimes against girls."

For many decades in Indian society girl child is considered as a curse for the society. Current sex ratio as per census 2001 was 927 to 1000 boys, which indeed is matter to think about. Sex determination tests are performed all over the country and it’s sad that the business has grown to 1000 crores.The trend of abortions and sex determination is common not only in villages but its also prevalent in the upper strata of the society. Killing of a baby girl before her birth is an offence. Doctors are not allowed to perform the sex determination tests and in case they are found guilty they can be send to jail and there licence can be seized.

It is one of the major concerns for our Indian society. Awareness is one of the major weapons that will help in this field. Girls are not curse to the society they are equal to boys in every respect. We, as Indian citizen need to stress upon the individual awareness.

संस्था की संचालिका की पृष्ठ भूमि

पिलखुआ , उत्तर प्रदेश की जन्मी और विवाह के उपरांत गाजिबाद की श्रीमती सुरभि गुप्ता ने टीवी प्रोग्राम " सुरभि " से प्रेरणा लेकर समाज में बढ़ रही कुरीतियों को दूर करने का संकल्प लेकर सखा फाउंडेशन (रजि.) की शुरुआत की । उन्होंने समाज की कुरीतियों पर गहराई से अध्ययन करने के उपरांत पाया कि शिक्षा , बेरोजगारी ,दहेज़ , हत्या ,पर्यावरण ,ऊर्जा , वृद्धावस्था , नदियों में कि गंदगी के अलावा कन्या भ्रूण हत्या पर का ध्यान नहीं है । और यह काम होने के बजाय और भी बढ़ता जा रहा है ।

यह समस्या सरकार कि जानकारी में तो है पर सरकार द्योरा कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे है । केवल मीटिंग करके लोगो को जिम्मेदारी सौप दी जाती है और केवल सरकारी लोगो द्योरा उनकी उपेक्षा कि जाती है और इसकी कोई भी मानिटरिंग किसी के द्योरा नहीं की जाती है । मा० न्यायलय सुप्रीमो कोर्ट ने भी इस पर अपनी चिंता व्यक्त की है ।
सांथा द्वारा इस सम्बन्ध में कन्या भ्रूण हत्या को मैन एजेंडा बनाकर कार्य करना शुरू कर दिया है और संस्था द्वारा संकल्प लिया गया कि सारे मोहल्ले , शहर ,जिले , प्रदेश और देश में इस पर काम लिया जायेगा ।



Powered by - Coracle Infotech (India) Pvt.Ltd.